Rahul Gandhi लोकसभा में बने नेता प्रतिपक्ष, 10 साल बाद देश को मिला नया विपक्ष का नेता

देश को 10 साल बाद लोकसभा में विपक्ष का नेता मिल गया है। उत्तर प्रदेश के रायबरेली से सांसद राहुल गांधी लोकसभा में विपक्ष के नेता होंगे।

राहुल गांधी को विपक्ष के नेता के रूप में बहुत बड़ी जिम्मेदारी मिली है, यदि वह इसे सही से निभा पाये तो यकीनन प्रधानमंत्री बनने का उनका सपना भी पूरा हो सकता है।

विपक्ष का नेता बनते ही जिस तरह राहुल गांधी टी-शर्ट छोड़कर कुर्ते पायजामे में संसद भवन पहुँचे उससे उन्होंने काफी संकेत और संदेश दे दिये हैं।

पिछली बार सिर्फ सांसद रहे कांग्रेस नेता राहुल गाँधी इस बार बतौर विपक्ष के नेता बड़े सरकारी आवास के और कैबिनेट रैंक की सुविधाओं के हकदार होंगे।

राहुल गांधी अब प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली कई महत्वपूर्ण चयन समितियों के भी सदस्य हो जाएंगे। यानि अब मोदी से उनका आमना सामना सिर्फ संसद में ही नहीं बल्कि कई समितियों में भी होगा।

लोकसभा अध्यक्ष के रूप में ओम बिरला के निर्वाचन के समय राहुल ने प्रधानमंत्री मोदी से हाथ मिलाकर संकेत दिया है कि वह सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाने के लिए तैयार हैं।

कांग्रेस कार्य समिति ने गत आठ जून को सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित कर पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से आग्रह किया था कि वह लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी संभालें।

हरियाणा में Sunita Kejriwal ने संभाला मोर्चा, चुनाव से पहले AAP ने लॉन्च की 5 गारंटी

झारखंड में Amit Shah का आरोप - 'घुसपैठियों को संरक्षण दे रहे हेमंत सोरेन'

उद्धव ठाकरे का दावा, सत्ता में आने पर धारावी स्लम पुनर्विकास परियोजना का टेंडर होगा रद्द

Webstories.prabhasakshi.com Home