नालंदा विश्वविद्यालय के इतिहास के बारे में जानें

नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्घाटन पीएम मोदी ने कर लिया है

नालंदा विश्वविद्यालय 815 सालों के इंतजार के बाद फिर अपने स्वरूप में लौटा है

नालंदा विश्वविद्यालय की स्थापना 450 ई. में गुप्त सम्राट कुमारगुप्त प्रथम ने की थी

नालंदा विश्वविद्यालय में 300 कमरे, 7 बड़े कक्ष और अध्ययन के लिए 9 मंजिला एक विशाल पुस्तकालय था

विश्वविद्यालय में 10,000 से अधिक छात्र और 2,700 से अधिक शिक्षक होते थे

नालंदा विश्वविद्यालय में छात्रों का चयन मेधा के आधार पर होता था

कोरिया, जापान, चीन, तिब्बत, इंडोनेशिया, ईरान, ग्रीस, मंगोलिया से पढ़ने छात्र विश्वविद्यालय आते थे

नालंदा विश्वविद्यालय को 1193 में बख्तियार खिलजी के आक्रमण के बाद बर्बाद किया गया था

हरियाणा में Sunita Kejriwal ने संभाला मोर्चा, चुनाव से पहले AAP ने लॉन्च की 5 गारंटी

झारखंड में Amit Shah का आरोप - 'घुसपैठियों को संरक्षण दे रहे हेमंत सोरेन'

उद्धव ठाकरे का दावा, सत्ता में आने पर धारावी स्लम पुनर्विकास परियोजना का टेंडर होगा रद्द

Webstories.prabhasakshi.com Home