जगन्नाथ मंदिर के चारों द्वार खोले गए

12वीं सदी के शक्तिशाली मंदिर पुरी के जगन्नाथ मंदिर के चारों द्वार खोले गए है

सिंहद्वार के अलावा कोविड के बाद से अश्व द्वार, व्याघ्र द्वार और हस्ति द्वार बंद थे

चार द्वार चार दिशाओं में खुलते है, जिनका प्रतिनिधित्व अलग अलग जानवर करते है

सिंह द्वार में दो बड़ें सिंह है जिन्हें जीत का प्रतीक माना जाता है

व्याघ्र द्वार से मंदिर में जाने वालों को बाघ की ताकत और निडरता मिलती है

हस्ति द्वार पर हाथी बना है, जो माना जाता है कि बौद्ध धर्म का प्रतीक है

अश्व द्वार पर दो घोड़ों पर जग्गनाथ और बालभद्र बने हैं, जो कांची अभिजन का प्रतीक है

PM Modi के एक्स पर हुए 100 मिलियन फॉलोअर्स

सरकार में मंत्री छगन भुजबल से मुलाकात के दो दिन बाद Sharad Pawar ने तोड़ी चुप्पी

Shah ने कांग्रेस पर कसा तंज, कहा - 'बनिया का बेटा हूं, पाई-पाई का हिसाब लेके चलता हूं'

Webstories.prabhasakshi.com Home